तेज प्रताप अचानक पहुंचे लालू यादव के गांव, कहा- फुलवरिया स्टेशन का इतिहास मिटाना चाहती है मोदी सरकार

448

बिहार में जातिगत जनगणना और राज्यसभा चुनाव को लेकर सियासी बयानबाजी का दौर तेज है। इसी बीच अब राष्ट्रीय जनता दल के सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) दिल्ली से आज शाम पटना आ रहे हैं। राजद सुप्रीमो के साथ उनकी बेटी और राज्यसभा सांसद मीसा भारती (Misa Bharti) के आने की भी खबर है। इस बीच तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) अचानक से लालू यादव के गांव फुलवरिया पहुंच गए। फुलवरिया स्टेशन पहुंचने के बाद उन्होंने मोदी सरकार पर कई आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि साजिश की तहत मेरे पिता द्वार बनाए गए इस स्टेशन का नाम-ओ-निशान मिटाने की कोशिश हो रही है।

राजद सुप्रीमो के बड़े बेटे और राजद से हसनपुर के विधायक तेज प्रताप यादव बुधवार की सुबह अचानक लालू यादव के गांव फुलवरिया पहुंच गए। तेज प्रताप यादव सेकेंड लालू तेज प्रताप यादव के फेसबुक पेज से फुलवरिया स्टेशन से लाइव आए। इस दौरान तेज प्रताप यादव ने बताया कि जब उनके पिता रेल मंत्री थे तो फुलवरिया स्टेशन का निर्माण कराया था। लेकिन आज इस स्टेशन का हाल बुरा है। उन्होंने स्टेशन पर पड़ी गंदगी और बंद टिकट काउंटर को दिखाया। तेज प्रताप यादव ने बताया कि इस स्टेशन से केवल एक ट्रेन का परिचालन होता है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि केन्द्र की सरकार साजिश के तहत इस स्टेशन का नाम-नो-निशान मिटाना चाहती है। लेकिन युवाओं के रहते ऐसा नहीं होगा।

फेसबुक लाइव के जरिए तेज प्रताप यादव ने फुरवरिया स्टेशन की बदइंतजामी पर केन्द्र और बिहार सरकार पर हमला बोला। उन्होंने बताया कि स्टेशन पर जो हैंडपंप लगा है वो खराब, सफाई के लिए कोई इंतजाम नहीं किया गया है। इसके साथ ही उन्होंने स्टेशन पर सोते हुए कुत्तों को दिखाया। तेज प्रताप ने कहा कि जब लालू यादव रेल मंत्री थे तो रेलवे को कितना फायदा हुआ था। लेकिन आज रेलवे प्रशासन की तरफ से इस स्टेशन के रख रखाव पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। उन्होंने रेल मंत्री से मांग है कि फुलवरिया स्टेशन पर यात्रियों को मिलने वाली बेहतर सुविधाओं को लेकर ध्यान दिया जाए।

फुलवरिया- 'स्वप्न' बन गया लालू का ड्रीम प्रोजेक्ट