गोपालगंज के माँझा में रात के अंधेरे में बगीचे में मिला प्रेमी युगल, ग्रामीणों ने पकड़कर पूरी कर दी मन की मुराद

959

गोपालगंज जिले के गांव में एक प्रेमी युगल को गांव वालों ने रात के वक्‍त बगीचे में पकड़ लिया। इसके बाद पूरे गांव में तमाशा खड़ा हो गया। गांव वालों ने दोनों से पूछताछ की तो पता चला कि दोनों करीब दो साल से एक-दूसरे को चाहते हैं और इसी तरह छिपकर लगातार मिलते रहते हैं। दोनों को डर था कि परिवार वाले उनकी शादी के लिए राजी नहीं होंगे। गांव वालों का कहना है कि सोमवार की रात बगीचे में मिलने के बाद दोनों गांव छोड़कर कहीं भागने वाले थे। बहरहाल गांव वालों ने दोनों को पकड़ने के बाद उनके मन की मुराद पूरी कर दी।

दोनों के माता-पिता को राजी करने के बाद लिया गया फैसला

मांझा प्रखंड की शेखपरसा पंचायत के मुजौना गांव में सोमवार की रात घर से निकलकर बाग में मिलने पहुंचे एक प्रेमी व प्रेमिका को ग्रामीणों ने पकड़ लिया। दोनों घर से निकलकर एक साथ भागने के चक्कर में थे। दोनों को पकड़ने के बाद उनके माता व पिता को समझा कर मंगलवार की सुबह ग्रामीणों ने युवक व युवती की गांव में स्थित काली मंदिर में शादी रचा दी। युवक व युवती जीवन भर के लिए एक-दूजे के हो गए।

दो साल से दोनों के बीच चल रहा था प्रेम संबंध

बताया जाता है कि बरौली प्रखंड के बखरौल जदी गांव निवासी दशरथ प्रसाद तथा मांझा के मुजौना गांव निवासी मनीषा कुमारी के बीच पिछले दो साल से प्रेम प्रसंग चल रहा था। दोनों एक-दूसरे से छिप-छिपकर मिलते रहते थे। सोमवार की रात युवक अपनी प्रेमिका से मिलने मुजौना गांव के समीप बगीचे में पहुंच गया। कुछ देर बाद युवती भी चुपके से अपने घर से निकलकर युवक से मिलने बगीचे में पहुंच गई। दोनों एक साथ घर से भागने ही वाले थे कि तभी कुछ ग्रामीणों को इसकी भनक लग गई। बगीचे में पहुंचे ग्रामीणों ने युवक व युवती को पकड़ लिया। इसके बाद ग्रामीणों ने युवक व युवती के स्वजनों तथा स्थानीय मुखिया को बुलाया।

गांव के काली मंदिर में हुई दोनों की शादी

मंगलवार की सुबह पूर्व मुखिया व मुखिया प्रतिनिधि भुपेंद्र प्रसाद ने युवक व युवती के घर वालों को समझकर उन्हें दोनों की शादी के लिए राजी करा लिया। दोनों के घर वालों की सहमति मिलने के बाद ग्रामीणों ने गांव के काली मंदिर में दशरथ प्रसाद तथा मनीषा की शादी करा दिया।

शादी कराने में भूल गए अपनी सुरक्षा

बगीचे से एक दूसरे से मिलने पहुंचे युवक व युवती को पकड़ने के बाद उनकी शादी कराने के चक्कर में ग्रामीण कोरोना से अपनी सुरक्षा करने के उपाय को भूल गए। इस बार कोरोना संक्रमण के मामले में ग्रामीण इलाकों में शहरी क्षेत्र से अधिक मिल रहा है। प्रशासन से लेकर स्वास्थ्य विभाग ग्रामीणों को हमेशा मास्क पहनने तथा शारीरिक दूरी का पालन करने के लिए लगातार अपील कर रहा है। लेकिन मुजौना गांव में युवक व युवती की शादी कराने के दौरान ग्रामीणों पर प्रशासन की लगातार की जा रही अपील का कोई असर नहीं दिया। युवक व युवती दोनों मास्क नहीं पहने थे। दोनों की शादी होते देखने के लिए मंदिर पहुंचे अधिकांश ग्रामीण भी बिना मास्क के नजर आए। शारीरिक दूरी के नियम का पालन भी नहीं किया गया।

गोपालगंज में प्रेमिका की हत्या में गिरफ्तार प्रेमी के घर से युवती का मोबाइल फोन बरामद