उचकागांव के साथी गांव में दोस्तों ने घर से बुलाकर युवक का गला रेता, मरा समझकर झाड़ियों में फेंका

390

उचकागांव थाना क्षेत्र के साथी गांव में गुरुवार की रात घर से बुलाकर एक युवक की गला रेतकर हत्या करने की कोशिश की गयी. अपराधियों ने मरा समझकर युवक को झाड़ियों में फेंक दिया. घायल युवक को इलाज के लिए सदर अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया गया, जहां से डॉक्टरों ने उसकी हालत चिंताजनक बताते हुए बेहतर इलाज के लिए गोरखपुर मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया. घायल युवक की पहचान मोहम्मद रफीक आलम के रूप में की गयी है, जो साथी गांव के निवासी नूर मोहम्मद का पुत्र था.

सदर अस्पताल से गोरखपुर किया गया रेफर

उचकागांव के साथी में परिजनों ने बताया कि मोहम्मद रफीक आलम खाना खाने के बाद सोने चला गया था. इसी बीच उसके दोस्तों का कॉल आया और वह बाहर निकल गया. परिजनों ने जब रफीक से बाहर जाने की बात पूछी, तो उसने बताया कि उसके दोस्त बुला रहे हैं. थोड़ी देर बाद गांव के ग्रामीणों से परिजनों को खबर मिली कि रफीक की गला रेतकर झाड़ियों में फेंक दिया गया है. आनन-फानन में पहुंच परिजनों ने ग्रामीणों की मदद से घायल युवक को इलाज के लिए सदर अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया. वहां डॉक्टरों ने शरीर से अत्यधिक खून गिरने के कारण उसकी हालत गंभीर बताते हुए रेफर कर दिया.

दोस्तों पर चाकू मारने का आरोप

परिजनों ने घायल युवक के दोस्तों पर ही चाकू से गला रेत देने का आरोप लगाया है. घटना की वजह पुरानी रंजिश होने की बात सामने आयी है. परिजनों का कहना है कि पुलिस को भी वारदात की सूचना दी गयी, लेकिन स्थानीय पुलिस जांच के लिए नहीं पहुंची.

उचकागांव के साथी में बख्शे नहीं जायेंगे दोषी : एसडीपीओ

वहीं हथुआ एसडीपीओ नरेश कुमार ने कहा कि मामले में युवक का बयान दर्ज करने के लिए पुलिस को गोरखपुर भेजा जा रहा है. एसडीपीओ ने कहा कि घटना में जो भी दोषी होंगे, उन्हें बख्शा नहीं जायेगा.

गोपालगंज के थावे में दोस्तों के साथ कार से जा रहे युवक पर पिस्तौल के बट से हमला