गोपालगंज के उचकागांव की ललिता हत्याकांड में आरोपित युवक व उसका पिता गिरफ्तार, दो पिस्तौल जब्त

533

उचकागांव थाना क्षेत्र के अरना गांव में पुलिस ने छापा मारकर लुहसी गांव की ललिता कुमारी की हत्या मामले में आरोपित एक युवक तथा उसके पिता को गिरफ्तार कर लिया। बता दें कि ललिता की हत्या एक माह पूर्व गोली मारकर हुई थी। पुलिस ने आरोपित के घर से एक ऑटोमैटिक और एक देसी पिस्तौल, 7.65 बोर का चार जिदा कारतूस, 0.315 बोर का 20 जिदा कारतूस, दो मोटरसाइकिल, 439.50 लीटर अंग्रेजी व 30 लीटर चुलाई शराब समेत अन्य सामान बरामद किया है। 2013 में भोरे के नरेंद्र डुमर गांव में चचेरी बहन की हत्या मामले में भी गिरफ्तार आरोपित युवक और उसके पिता के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज है। पिता व पुत्र से पूछताछ करने के बाद पुलिस ने उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

लुहसी गांव निवासी ललिता हत्याकांड में युवती के जीजा अरना गांव निवासी राजकुमार भगत, इसके भाई बलिराम भगत व कृष्णा भगत के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज हुई थी। इसके बाद पुलिस ने आरोपित जीजा राजकुमार भगत को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। हत्या का कारण संपत्ति हड़पने की नीयत थी। एक आरोपित को गिरफ्तार करने के बाद पुलिस अन्य की तलाश में छापेमारी अभियान चला रही थी। इसी बीच थानाध्यक्ष अब्दुल मजीद को सूचना मिली कि आरोपित बलिराम सिंह तथा इसका भाई कृष्णा सिंह शराब का धंधा कर रहे हैं तथा भारी मात्रा में शराब लेकर अरना पहुंचे हैं। थानाध्यक्ष ने पुलिसबल के साथ गांव में छापेमारी कर आरोपित बलिराम सिंह तथा उसके पिता माया सिंह को गिरफ्तार कर लिया। इस दौरान पुलिस ने इनके घर से एक ऑटोमैटिक पिस्तौल, एक देसी पिस्तौल, 7.65 बोर का चार जिदा कारतूस, 0.315 बोर का 20 जिदा कारतूस, दो मोटरसाइकिल, 439.50 लीटर अंग्रेजी व 30 लीटर चुलाई शराब , चुलाई शराब बनाने के काम में आने वाली 30 किलोग्राम यूरिया, गुड़, गैस चूल्हा, सिलेंडर तथा भारी मात्रा में शराब पैक करने के लिए प्लास्टिक का पाउच बरामद की। जिस कमरे से भारी मात्रा में शराब बरामद की गई, उसे सीओ रविश कुमार की देखरेख में सील कर दिया गया। गिरफ्तार आरोपित युवक व उसके पिता को पुलिस ने न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

डूमर नरेंद्र गांव का मूल निवासी है आरोपित युवक व उसका पिता :

ललिता हत्याकांड में गिरफ्तार बलिराम सिंह तथा उसका पिता माया सिंह भोरे थाना क्षेत्र के डूमर नरेंद्र गांव के मूल निवासी हैं। माया अपने परिवार के साथ ससुराल अरना में आकर बस गया था। थानाध्यक्ष ने बताया कि साल 2013 में डूमर नरेंद्र गांव में चचेरी बहन की हत्या करने के मामले में भी बलिराम सिंह, इसका भाई राजकुमार भगत व कृष्णा सिंह व पिता माया सिंह के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज थी। ललिता हत्याकांड में पुलिस राजकुमार भगत को पहले ही जेल भेज चुकी है। थानाध्यक्ष ने बताया कि राजकुमार के खिलाफ हत्या सहित कई मामले पूर्व से दर्ज हैं। कुछ समय से माया सिंह तथा उसके पुत्र शराब धंधे से जुड़ गए थे। वे यूपी से शराब की तस्करी कर बेचने के साथ ही घर में चुलाई शराब बनाकर पैक कर बेचते थे। ललिता हत्याकांड के बाद से पुलिस बलिराम सिंह व कृष्णा सिंह की तलाश कर रही थी। इसी बीच थानाध्यक्ष को मुखबिरों ने सूचना दी कि आरोपित बलिराम सिंह यूपी से शराब लेकर घर पहुंचा है। थानाध्यक्ष ने अरना गांव में छापेमारी कर आरोपित बलिराम सिंह को गिरफ्तार करने के साथ ही शराब के धंधे के खेल को भी खत्म कर दिया। पुलिस ने माया सिंह को भी गिरफ्तार कर लिया।

उचकागांव: आर्केस्ट्रा संचालक की पत्नी व साली लापता