गोपालगंज में ट्रैक्टर से बैट्री चुराने के आरोपी से मॉब लिंचिंग की कोशिश, गर्म लोहे से दागा

313

कोई चोर हो तो भी क्या उसे सजा देने की छूट भीड़ को दी जा सकती है? या पुलिस को ही ये अधिकार है क्या कि वह किसी आरोपी की सजा तय करे? दरअसल, ये सारे सवाल यह ध्यान दिलाने के लिए हैं कि किसी की सजा तय करने का अधिकार सिर्फ न्यायालय का होता है, किसी भीड़तंत्र का नहीं. लेकिन गोपालगंज में एक मामला ऐसा आया है जिसमें भीड़ ने सजा देने का अपराध किया.

जी हां, गोपालगंज में ट्रैक्टर से बैट्री चुराने का आरोप लगाकर एक युवक को पकड़कर उसकी पिटाई की गई और उसके शरीर को कई जगहों पर गर्म लोहे की छड़ से दाग दिया गया. यह वारदात नगर थाना क्षेत्र के चौराव गांव की है. पुलिस ने चोरी के इस आरोपी को ग्रामीणों के कब्जे से छुड़ाकर सदर अस्पताल के इमरजेंसी वॉर्ड में भर्ती कराया है. चोरी के आरोप में पकड़े गए शख्स की पहचान दिलजान साह के रूप में की गई है. वह थावे थाना क्षेत्र के नवका टोला कला खानपुर के रहनेवाले रियाजुद्दीन साह का बेटा है.

गांव के लोगों का आरोप है कि दिलजान रात के एक बजे चौराव गांव में खड़े ट्रैक्टर से बैट्री चोरी करने लगा. इसी बीच वहां के लोगों ने उसे पकड़ लिया और बंधक बनाकर उसकी पिटाई की. पिटाई के बाद दिलजान को गर्म लोहे की छड़ से शरीर पर कई हिस्सों में दागा गया. युवक के शरीर पर कई जगह लोहे की छड़ से दागने के जख्म हैं. भीड़ के कब्जे से छुड़ाने के बाद पुलिस उसका इलाज कराने अस्पताल ले गई. आरोपी युवक के जख्म देखकर डॉक्टर भी हतप्रभ थे. दिलजान ने बताया कि उसे ग्रामीणों ने तब तक पीटा, जब तक वह बेहोश न हो गया. सुबह में पुलिस ने पहुंचकर दिलजान की जान बचाई.

लेकिन असल सवाल यह है कि भीड़ के इस अपराध को कौन दर्ज करेगा. नगर थाने की पुलिस का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है. नगर इंस्पेक्टर ललन कुमार ने कहा कि अबतक आरोपी के विरुद्ध कोई लिखित शिकायत नहीं दी गई है. पुलिस जांच कर दोषियों पर कार्रवाई करेगी.

गोपालगंज के थावे में लोहे की बेंच पर बैठकर भूंजा खा रहे दो भाइयों को लगा करंट, एक की मौत