भाई को उप मुखिया बनाने के लिए मुखिया की हत्या, शूटर्स को दी पांच लाख की सुपारी

535

गोपालगंज के धतिवना पंचायत के नव निर्वाचित मुखिया (Bihar Mukhia) सूखल मुसहर की गोलियों से भूनकर हत्या किये जाने के मामले में पुलिस की स्पेशल सेल ने तीन कांट्रैक्ट किलरों (Contract Killer) को गिरफ्तार कर लिया है. थावे थाना क्षेत्र के लोहरपट्टी नहर के पास से इन अपराधियों की गिरफ्तारी की गयी है. मुखिया की हत्या (Gopalganj Mukhai Murder) चुनावी रंजिश में किये जाने का खुलासा हुआ. हत्या के लिए पांच लाख रुपये में कांट्रैक्ट किलरों को सुपार दी गयी थी.

एसपी आनंद कुमार ने मामले का खुलासा करते हुए बताया कि मुखिया की हत्या में गिरफ्तार कांट्रैक्ट किलर थावे थाना क्षेत्र के धतिवना गांव के सुमित कुमार उर्फ श्रीराम सिंह, रामचंद्रपुर गांव के विशाल उपाध्याय और हथुआ थाना क्षेत्र के बरी ईसर गांव के हारूण मियां हैं. इनके पास से मुखिया की हत्या में प्रयोग किया गया एक पिस्टल, एक देशी कट्टा, 22 कारतूस, एक मोटरसाइकिल, दो मोबाइल, एक टैब और एक बायोमेट्रिक मशीन बरामद किया गया है.

एसपी ने बताया कि गिरफ्तार अपराधी सुमित कुमार उर्फ श्रीराम का भाई उप पमुखिया बनना चाहता था और इसी रंजिश में मुखिया की हत्या करायी गयी. गिरफ्तार सभी अपराधियों का अपराधिक इतिहास रहा है. सुमित कुमार उर्फ श्रीराम सिंह पर सात अपराधिक मामले दर्ज हैं, जबकि विशाल उपाध्याय पर छह और हारूण मियां पर विस्फोटक पदार्थ अधिनियम के तहत एक केस दर्ज है. पुलिस इन कांट्रैक्ट किलरों से पूछताछ कर अन्य अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है.

बता दें कि थावे थाना क्षेत्र के धतिवना गांव में बीते 18 जनवरी को धतिवना पंचायत के नवनिर्वाचित मुखिया सूखल मुसहर की अपराधियों ने गोलियों से भूनकर हत्या कर दी थी. हत्या के इस मामले में मुखिया की भावह चांद ज्योति देवी ने छह नामजद समेत अज्ञात लोगों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज करायी थी. हत्या के करीब 40 दिन बाद पुलिस ने वारदात को खुलासा करते हुए कांट्रैक्ट किलरों की गिरफ्तारी की है.

बेखौफ बदमाशों की करतूत, गोपालगंज के जमुनहा में बालू-गिट्टी व्यवसायी के भाई को दिनदहाड़े गोलियों से भूना