संसद भवन का बनवाया फर्जी एंट्री पास, मंत्री जनक राम के दोनों सचिव समेत तीन गिरफ्तार

343

संसद भवन का फर्जी एंट्री पास बनवाने के मामले में दिल्ली क्राइम ब्रांच की टीम ने गोपालगंज के पूर्व सांसद तथा वर्तमान में बिहार सरकार के खान एवं भूतत्व मंत्री जनक राम के दोनों निजी आप्त सचिव समेत तीन लोगों को गिरफ्तार किया है।

जदयू के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष सह गोपालगंज के सांसद डॉ आलोक कुमार सुमन की शिकायत पर दिल्ली क्राइम ब्रांच की टीम ने यह कार्रवाई की है। गोपालगंज के एसपी आनंद कुमार ने गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए बताया कि फुलवरिया थाने के रामसन पेनुला गांव के रहनेवाले बबलू आर्या व कुचायकोट के दउदा रामपुर गांव के रहनेवाले ज्योति भूषण भारती दोनों जनक राम के निजी आप्त सचिव थे।

वहीं, कंप्यूटर कैफे संचालक महेश कुमार नगर थाने के नोनिया टोला का रहनेवाला है, जो संसद भवन में एंट्री पास के लिए सांसद डॉ आलोक कुमार सुमन का फर्जी लेटर पैट व मुहर समेत अन्य फर्जी दस्तावेजों को तैयार करता था। दिल्ली क्राइम ब्रांच ने मंत्री के दोनों निजी आप्त सचिवों की गिरफ्तारी दिल्ली से की है।

पूछताछ के बाद उनके निशानदेही पर फर्जी दस्तावेज बनानेवाले महेश कुमार की गिरफ्तारी नगर थाने के नोनिया टोली स्थित उसके आवास से की गयी है। उधर, दिल्ली क्राइम ब्रांच की कार्रवाई होने के बाद खान एवं भूतत्व मंत्री जनक राम ने दोनों को हटा दिया है।

क्या है पूरा मामला

मंत्री जनक राम भाजपा के टिकट पर चुनाव जीतकर 2014 से 2019 तक गोपालगंज के सांसद रहे। वहीं साल 2019 में एनडीए के प्रत्याशी बने डॉ आलोक कुमार सुमन सांसद बने। इस बीच पूर्व सांसद के निजी सचिव रहे बबलू आर्या ने वर्तमान सांसद का फर्जी लेटर पैड, मुहर व हस्ताक्षर का इस्तेमाल कर संसद भवन में एंट्री का पास बनवा लिया। इसकी जानकारी डॉ आलोक कुमार सुमन को हुई तो उन्होंने तीन सितंबर 2021 को स्पीकर, गृह विभाग, पीएमओ व मुख्यमंत्री के पास शिकायत की।

गृह विभाग ने जांच और कार्रवाई का जिम्मा दिल्ली क्राइम ब्रांच को सौंप दिया। क्राइम ब्रांच ने बबलू आर्या के साथ ज्योति भूषण भारती को भी दिल्ली से गिरफ्तार किया। दोनों की निशानदेही पर गोपालगंज से शनिवार को कंप्यूटर कैफे संचालक महेश कुमार की गिरफ्तारी हुई है।

दोनों को हटाया, जांच में कर रहे सहयोग : जनक

बिहार सरकार के मंत्री जनक राम ने कहा कि सूचना मिलते ही दोनों निजी आप्त सचिवों को तत्काल प्रभाव से हटा दिया है। दिल्ली क्राइम ब्रांच का सहयोग कर रहे हैं, ताकि दोषियों के विरुद्ध कानूनी कार्रवाई की जा सके।

गोपालगंज में 104 एकड़ जमीन में बनेगा नया कलेक्ट्रेट भवन व पुलिस लाइन