गोपालगंज में मोहर्रम पर नहीं निकला ताजिया का जुलूस, तैनात रहे दंडाधिकारी

323

जिले में मोहर्रम सादगी और कोरोना प्रतिबंधों के साथ मनाया गया। इस बीच इमामबाड़ा और अखाड़े वीरान रहे। न ताजिया सजाए गए और ना ही जुलूस निकला। लोगों ने अपने-अपने घरों में मजलिस और इमाम हुसैन को याद किया। इस बीच प्रशासनिक स्तर पर पूरे जिले में कड़ी चौकसी रखी गई। चौक-चौराहों से लेकर ग्रामीण इलाकों के विभिन्न स्थानों पर दंडाधिकारी व पुलिस पदाधिकारी तैनात रहे।

प्रत्येक वर्ष मोहर्रम के मौके पर पूरे जिले में कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता था। इस मौके पर शहर के विभिन्न इलाकों से भव्य ताजिया व जुलूस निकला था, जो शहर के विभिन्न इलाकों से होकर गुजरता था। जिला मुख्यालय के अलावा मीरगंज व थावे में भी इस मौके पर भव्य ताजिया लोगों के आकर्षण के केंद्र में होता था। ग्रामीण इलाकों में भी गांवों से जुलूस निकालकर पूरे इलाके में ताजिया का भ्रमण किया जाता था। लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण को देखते हुए बगैर भीड़-भाड़ के मोहर्रम मनाया गया। कहीं पर भी जुलूस नहीं निकाला गया। लोगों ने कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए प्रशासन की ओर से जारी किए गए गाइड लाइन का पालन करते हुए मोहर्रम मनाया। प्रशासनिक स्तर पर पर्व को देखते हुए पूरे जिले में कड़ी चौकसी रखी गई। नियंत्रण कक्ष में तैनात पदाधिकारी व कर्मी पूरे जिले की स्थिति के बारे में लगातार जानकारी प्राप्त करते रहे। हालांकि भोरे में कई स्थानों पर ताजिया का निर्माण तो किया गया, लेकिन प्रशासनिक स्तर पर सार्वजनिक रूप से कार्यक्रमों के आयोजन की अनुमति नहीं दिए जाने के कारण ताजिया नहीं निकल सका।

अस्त्र-शस्त्र लेकर चलने पर रही पाबंदी:

मोहर्रम के दौरान पूरे जिले में अस्त्र-शस्त्रों को लेकर चलने पर पाबंदी रही। ड्यूटी पर तैनात दंडाधिकारी व पुलिस कर्मी प्रशासनिक स्तर पर जारी किए गए इस निर्देश का अनुपालन कराने में जुटे रहे। मोहर्रम को देखते हुए प्रत्येक दंडाधिकारी के साथ 1-4 का पुलिस बल तैनात किया गया था। मोहर्रम के मौके पर पूरे जिले में 1200 से अधिक जवान विभिन्न इलाकों में तैनात की गई। इनके अलावा 253 स्थानों पर दंडाधिकारी के साथ एसआइ व एएसआइ की भी तैनाती की गई।

शहर में जुलूस निकालने का प्रयास करने वालों पर दर्ज होगी प्राथमिकी:

प्रशासनिक स्तर पर रोक के बावजूद शहर के जादोपुर चौक व जंगलिया मोड़ के समीप जुलूस निकालने का प्रयास करने वालों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई जाएगी। जिलाधिकारी डा. नवल किशोर चौधरी ने बताया कि ऐसे लोगों को चिह्नित कर उनके विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दिया गया है। सरकार के निर्देशों की अवहेलना कर जुलूस निकालने वाले किसी भी व्यक्ति को बख्शा नहीं जाएगा।

गोपालगंज के कबिलासपुर में मोहर्रम पर जुलूस निकालने के मामले में 56 लोगों पर केस