सफेदपोश लोगों की मदद लेकर सिवान से आठ लाख रुपये में मुन्ना मिश्रा ने खरीदी थी एके-47

430

बिहार व यूपी की सीमा पर स्थित पकहां गांव से एके 47 के साथ गिरफ्तार किए गए कुख्यात मुन्ना मिश्रा उर्फ दिलीप मिश्रा को जेल भेजने के बाद पुलिस अब उसे एके 47 देने वाले बदमाश को चिह्नित कर उनके खिलाफ कार्रवाई करने की तैयारी में जुट गई है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि कुख्यात मुन्ना मिश्रा को एके 47 देने वाले एक बदमाश को पुलिस ने चिह्नित कर लिया है।

मुन्ना मिश्रा कुछ सफेदपोश लोगों की मदद से आठ लाख रुपये में सिवान जाकर एके 47 लाया था। मुन्ना मिश्रा को एके 47 देने वाले एक बदमाश को चिह्नित करने के बाद पुलिस ने उसकी गिरफ्तारी के लिए उत्तर प्रदेश, सिवान व बेतिया जिले में छापेमारी अभियान प्रारंभ कर दिया है।

बताया जाता है कि कुख्यात मुन्ना मिश्रा के पास पहले कोई बड़ा हथियार नहीं था। ऐसे में कुख्यात मुन्ना मिश्रा जिले के साथ यूपी में अपना दहशत बनाने के लिए कुछ सफेदपोश लोगों से संपर्क किया। जिसके बाद उसे सफेदपोश लोगों ने पैसे मुहैया कराए।

पैसा मिलने के बाद मुन्ना मिश्रा ने सिवान के एक बदमाश से संपर्क किया। जिसके बाद उसे आठ लाख रुपये देने के बाद एके 47 जैसा घातक हथियार मिल गया। करीब दो माह पूर्व कटेया थाना क्षेत्र के जमुनहां बाजार में शिक्षक दिलीप सिंह की हत्या की घटना के बाद एसपी आनंद कुमार ने कुख्यात मुन्ना मिश्रा को चुनौती के रूप में लेते हुए उसकी गिरफ्तारी के लिए एसटीएफ व जिला पुलिस की एक टीम को तैयार कर उसके पीछे लगा दिया। जिसके बाद पुलिस ने बिहार व यूपी की सीमा पर स्थित पकहां गांव के समीप से उसे एके 47 के साथ गिरफ्तार कर लिया। पुलिस अब कुख्यात को एके 47 देने वाले बदमाश की तलाश है। बता दें कि दो दिन पहले शुक्रवार को बिहार एसटीएफ की टीम ने गोपालगंज जिले के कटेया थाना क्षेत्र के पानन महुअवा गांव निवासी मुन्ना मिश्रा उर्फ दिलीप मिश्रा को गिरफ्तार किया था। मुन्ना के पास से पुलिस ने एके 47 व काफी संख्‍या में कारतूस भी बरामद किया था। मुन्ना पर हत्या, रंगदारी, अपहरण व लूट के 18 मामले चल रहे हैं।

गोपालगंज के उचकागांव में कुख्यात मुन्ना मिश्रा की धरपकड़ के लिए गोपालगंज पहुंची एसटीएफ की टीम