गोपालगंज के अधिवक्ता त्रिपुरारी शरण की हत्या में जेल गया था पटना एसटीएफ के कुख्यात जयप्रकाश

389

पटना में एसटीएफ के हत्थे चढ़ा कुख्यात जयप्रकाश सिंह को शहर के हजियापुर वार्ड 27 में पांच साल पूर्व हुए अधिवक्ता त्रिपुरारी शरण शर्मा की गोली मार कर हत्या करने के मामले में पुलिस ने गिरफ्तार किया था। जेल से छूटने के बाद सासामुसा में भारतीय स्टेट बैंक में हुए लूटकांड में भी इसका नाम सामने आया था। मीरगंज नगर के हथुआ रेलवे स्टेशन के रैक प्वाइंट पर सिवान के राजकुमार शर्मा की गोली मार कर हत्या करने के मामले में भी उसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज है। तब से हह फरार चल रहा था। पुलिस उसकी तलाश कर रही थी।

पांच साल पूर्व शहर के हजियापुर वार्ड संख्या 27 निवासी अधिवक्ता त्रिपुरारी शरण शर्मा की उनके आवास के बाहर अपराधियों ने गोली मार कर हत्या कर दी थी। इस हत्याकांड में वारदात के तीन साल बाद पुलिस ने बरौली थाना क्षेत्र के देवापुर गांव निवासी कुख्यात जयप्रकाश सिंह उर्फ जेपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। जले से छूटने के बाद कुख्यात जेपी सिंह ने अपने साथियों के साथ कुचायकोट प्रखंड के सासामुसा बाजार में स्टेट बैंक में लूट की घटना को अंजाम दिया था। इस लूटकांड में कुख्यात के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज गई। प्राथमिक दर्ज करने के बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। जमानत पर जेल से छूटने के बाद वह फिर से आपराधिक घटनाओं को अंजाम देने लगा। इसी बीच जनवरी 2020 में हथुआ रेलवे स्टेशन परिसर स्थित गिट्टी के रैक प्वाइंट पर सिवान जिले के चर्चित राजकुमार शर्मा की गोली मारकर अपराधियों ने हत्या कर दी। इस हत्याकांड में कुख्यात जयप्रकाश सिंह के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई। वह तब से फरार चल रहा था। इसको गिरफ्तार करने के लिए पुलिस लगातार छापेमारी अभियान चला रही थी। लेकिन, स्थानीय पुलिस उस तक नहीं पहुंच सकी। इसी बीच कुख्यात जयप्रकाश सिंह पटना में एसटीएफ के हत्थे चढ़ गया। कुख्यात के खिलाफ विभिन्न थानों में आधा दर्जन मामले दर्ज हैं। इस संबंध में पूछे जाने पर हथुआ एसडीओ नरेश कुमार ने बताया कि मीरगंज में रैक प्वाइंट पर राजकुमार शर्मा की हत्या के बाद कुख्यात जेपी सिंह फरार चल रहा था। उसकी गिरफ्तारी को लेकर पुलिस छापेमारी अभियान चला रही थी। पटना में उसकी गिरफ्तारी की सूचना मिली है। मीरगंज थाना की पुलिस टीम पटना के लिए रवाना हो गई।

गोपालगंज के चौरांव रेलवे पुल से पकड़ा गया कुख्यात छोटेलाल दो दर्जन से अधिक वारदात को अंजाम दे चुका है