गोपालगंज के बरौली नगर में लॉकडाउन के खिलाफ सड़क पर उतरे किन्नर, थाना परिसर में काटा बवाल

608

लगन के समय कोरोना महामारी के कारण लॉकडाउन लगने से रोजी रोजगार पर पड़ रहे असर से आक्रोशित किन्नर शनिवार को बरौली नगर की सड़कों पर उतर आए। आक्रोशित किन्नरों ने नगर के थाना चौक के समीप सिवान-सरफरा पथ को जाम कर प्रदर्शन शुरू कर दिया। इस दौरान किन्नरों ने उधर से किसी को आने जाने नहीं दिया। सड़क पर बवाल काटने के बाद किन्नर थाना परिसर में पहुंच कर हंगामा करने लगे। किन्नरों के ताली पीटते हुए हंगामा करते देख थाना के पुलिस पदाधिकारियों से लेकर पुलिस कर्मी थाना भवन में ही दुबके रहे। इस दौरान समझाने पहुंचे चौकीदारों किन्नर उलझ गए। जिसे देखकर चौकीदार भी वहां से चले गए। किन्नरों के हंगामा के आगे पुलिस बेवस दिखी। किन्नर लॉकडाउन लगाने तथा लॉकडाउन का सख्ती से पालन करा रही पुलिस का विरोध कर रहे थे। वे अपने लिए भोजन पानी की व्यवस्था करने की मांग कर रहे थे। इसी बीच सूचना मिलने पर बरौली थाना पहुंचे सदर एसडीओ उपेंद्र पाल तथा एसडीपीओ नरेश पासवान ने किन्नरों को समझाकर मनाने के बाद उनके साथ थाना परिसर में बैठक किया। एक घंटे तक चली इस बैठक के दौरान एसडीओ तथा एसडीपीओ ने उनकी मांगों को वरीय पदाधिकारियों तक पहुंचने का आश्वासन देकर उन्हें समझा कर शांत करा दिया। इसके बाद किन्नर थाना परिसर से चले गए।

कोरोना संक्रमण के चेन को तोड़ने के लिए सरकार ने पूरे प्रदेश में लॉकडाउन लगाया है। इस समय लगन का सीजन चल रहा है। लॉकडाउन लागू होने के कारण शादी समारोह में नाचने गाने को लेकर किए गए सट्टा को लोगों ने रद कर दिया। इसके साथ ही पुलिस लॉकडाउन का कड़ाई से पालन करा रही है। जिससे परेशान किन्नर शनिवार की सुबह आठ बजे बरौली नगर की सड़कों पर उतर आए। बरौली तथा आसपास के इलाकों से काफी संख्या में आए किन्नरों ने थाना चौक के समीप सिवान-सरफरा पथ को जाम कर बवाल काटना शुरू कर दिया। यहां काफी देर तब बवाट काटने के बाद किन्नर बरौली थाना परिसर में घुस कर हंगामा करने लगे। किन्नर अपनने लिए भोजन व पानी की व्यवस्था करने की मांग कर रहे थे। उनका कहना था कि लगन में लॉकडाउन लगने के कारण नाचने गाने का सट्टा लोगों के रद कर देने से उनके सामने रोजी रोजगार का संकट खड़ा हो गया है। लॉकडाउन के कारण मांग कर खाने के लिए निकलने पर पुलिस लाठियां भांजती है। किन्नर 12 बजे तक थाना में हंगामा करते रहे। इस दौरान थाना के पुलिस पदाधिकारी तथा पुलिस कर्मी थाना भवन में दुबके रहे। किन्नरों के साड़ी व कपड़ा उठा उठाकर हंगामा करने को देखते हुए पुलिस कर्मी उनके सामने जाने की हिम्मत नहीं दिखा सके। इसी बीच सूचना मिलने पर एसडीओ उपेंद्र पाल तथा एसडीपीओ नरेश पासवान बरौली थाना पहुंच गए। उनके समझाने पर किन्नर उनके साथ बैठक करने के लिए तैयार हो गए। एक घंटे तक चली बैठक में एसडीओ तथा एसडीपीओ ने किन्नरों को समझा कर उन्हें शांत करा दिया।

गोपालगंज में लॉकडाउन के उल्लंघन पर सख्ती, 81 दुकानें सील