सांसत में फंसे लोग, कुचायकोट में गौरी शंकर गैस एजेंसी टर्मिनेट

नए साल के पहले ही दिन बुधवार को कुचायकोट प्रखंड के हजारों गैस उपभोक्ता सांसत में फंस गए। रसोई गैस के लिए लोग इधर उधर भटकते रहे। रसोई गैस की होम डिलिवरी नहीं होने पर काफी संख्या में लोग कुचायकोट प्रखंड मुख्यालय स्थित गौरी शंकर इंडेन गैस सर्विस के गोदाम पर पहुंचे तो पता चला किया गैस एजेंसी कतिपय कारणों से टर्मिनेट कर दिया गया है। विभागीय पदाधिकारियों से मंगलवार की देर शाम गैस एजेंसी के कर्मियों को इस बात की सूचना मिलने के बाद ऑफिस और गोदाम बंद कर दिया गया। गैस एजेंसी टर्मिनेट करने के बाद अब इस एजेंसी के उपभोक्ताओं को जिले के अलग-अलग गैस एजेंसियों से जोड़ा जा रहा है। उनके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर सूचना भेजी जा रही है । लेकिन लोगों को जिस गैस एजेंसी से जोड़ा जा रहा है, वहां से कब से उन्हें रसोई गैस मिलेगी इसके बारे में कोई जानकारी नहीं दे पा रहा है। लोगों का कहना था कि अब केरोसिन भी मिलना बंद हो गया है। ऐसे में घर में खाना कैसे बनेगा। हालांकि इस संबंध में गैस एजेंसी से जुड़े कोई भी व्यक्ति कुछ बताने को तैयार नहीं है ।

बताया जाता है कि मंगलवार की शाम अचानक गौरीशंकर इंडेन गैस सर्विस से जुड़े कर्मचारी को मैसेज मिला कि गैस एजेंसी कतिपय कारणों से टर्मिनेट कर दी गई है। गैस एजेंसी का टर्मिनेशन किस वजह से हुआ, इसके बारे में कोई जानकारी नहीं मिल सकी है। बताया जाता है कि गौरी शंकर इंडेन गैस सर्विस से करीब 29 हजार उपभोक्ता जुड़े हैं। गैस एजेंसी अपने वाहन से रसोई गैस की होम डिलिवरी करती थी। अब अचानक एजेंसी के टर्मिनेट कर दिए जाने से उपभोक्ताओं में अफरा-तफरी मची हुई है । सबसे बड़ी समस्या यह है कि उपभोक्ताओं की इस समस्या का कहीं से कोई ठोस जवाब नहीं मिल पा रहा है। उन्हें बस यही बताया गया है कि उनके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर जिस गैस एजेंसी से उन्हें जोड़ा गया है, उसका मैसेज किया जाएगा। लेकिन सैकड़ों उपभोक्ता जिनके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर कोई मैसेज नहीं आया है, वे परेशान हैं। वहीं इस संबंध में मोबाइल पर संपर्क करने पर गैस एजेंसी के संचालक रवि पांडेय ने बताया कि इंडियन आयल कारपोरेशन द्वारा उन्हें किसी तरह की नोटिस नहीं भेजी गई है और ना ही एजेंसी को लेकर कोई जांच चल रही थी । फिर एजेंसी टर्मिनेट क्यों किया गया है, इसके बारे में वह विभाग से जानकारी ले रहे हैं। विभाग से जानकारी मिलने के बाद ही वह अगले कदम के बारे में कुछ बता पाएंगे।

356 total views, 2 views today

खबर प्रकाशन संबंधित जानकारी