• टीकाकरण के साथ-साथ मिल रही है परिवार नियोजन पर जानकारी
• वीएचएसएनडी को सशक्त करने में केयर इंडिया द्वारा सहयोग
• सामूहिक सहभागिता से लोगों को जागरूक करने की पहल
गोपालगंज। परिवार नियोजन साधनों पर आम लोगों को जागरूक करने के मकसद से स्वास्थ्य विभाग हर संभव प्रयास कर रहा है। इसको लेकर जिला स्तर से लेकर सामुदायिक स्तर पर कई जागरूकता अभियान भी चलाए जा रहे है। इसी कड़ी में ग्रामीण स्वास्थ्य, स्वच्छता एवं पोषण दिवस यानि आरोग्य दिवस की भूमिका भी अहम है। ग्रामीण स्तर पर प्रत्येक सप्ताह में दो दिन आंगनबाड़ी केन्द्रों पर आरोग्य दिवस का आयोजन किया जा रहा है। जिसमें टीकाकरण एवं प्रसव पूर्व जाँच के अलावा परिवार नियोजन कार्यक्रमों पर महिलाओं को सलाह दिया जा रहा है. आरोग्य दिवस पर परिवार नियोजन साधनों पर बेहतर परामर्श की सुविधा उपलब्ध कराने में स्वास्थ्य विभाग के साथ केयर इंडिया भी सहयोग कर रहा है।
सामूहिक सहभागिता पर ज़ोर: आरोग्य दिवस के आयोजन में आशा एवं एएनएम के साथ आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा भी सहयोग किया जा रहा है। परिवार नियोजन साधनों के इस्तेमाल में बढ़ोतरी के लिए आरोग्य दिवस पर आने वाली महिलाओं को परिवार नियोजन के साधनों के बारे में जानकारी दी जा रही है। गर्भवती माताओं को प्रसव के बाद परिवार नियोजन के बास्केट ऑफ़ चॉइस के बारे में एएनएम विस्तार से जानकारी दे रही है। धात्री माताओं को भी बच्चों में अंतराल रखने की सलाह के साथ उपलब्ध साधनों के बारे में भी बताया जा रहा है।
केयर इंडिया के परिवार नियोजन समन्वयक अमित कुमार ने बताया कि अब सभी अब सरकारी अस्पतालों व सामुदायिक स्तर पर होने वाले वीएचएसएनडी कार्यक्रम में परिवार नियोजन की भी जानकारी दी जाती है। वीएचएसएनडी पर आनेवाली महिलाओं को परिवार नियोजन के साधनों के बारे में जागरूक किया जाता है। एएनएम अलका कुमारी ने बताया कि पहले के तुलना बहुत बदलाव देखने को मिल रहा है। सही जानकारी नहीं होने के कारण बहुत साड़ी महिलाएं चाह कर भी परिवार नियोजन के साधन का इस्तेमाल नहीं कर पाती हैं। इस दिशा में आरोग्य दिवस पर महिलाओं को परिवार नियोजन साधनों की जानकारी देना काफ़ी कारगर साबित हो रहा है।

कार्यकर्ताओं का क्षमता वर्धन:

जिला स्वास्थ्य समिति के डीपीएम अरविन्द कुमार ने बताया कि आरोग्य दिवस पर ग्रामीण महिलाओं को परिवार नियोजन कार्यक्रमों पर जानकारी देने के लिए क्षेत्रीय कार्यकर्ता (आशा एवं एनएनएम का क्षमता वर्धन किया गया है। साथ ही नियमित तौर पर उनका उन्मुखीकरण भी किया जाता है ताकि परिवार नियोजन साधनों की सटीक जानकारी लोगों को दी जा सके।
आरोग्य दिवस को सशक्त करने का प्रयास: केयर इंडिया के डीटीएल मुकेश कुमार सिंह ने बताया कि जिले में स्वास्थ्य विभाग के साथ केयर इंडिया वीएचएसएनडी पर दी जाने वाली सेवाओं की गुणवत्ता को सुनिश्चित करने का प्रयास कर रहा है। इसमें एएनएम मुख्य रूप से महिलाओं को गर्भनिरोधक साधनों की जानकारी देती है। इसे ध्यान में रखते हुए विभिन्न आरोग्य दिवस का नियमित दौरा कर परिवार नियोजन परामर्श की गुणवत्ता पर ध्यान दिया जा रहा है। इसकी मॉनिटरिंग भी की जाती है।

इन साधनों की दी जा रही जानकारी:
आरोग्य दिवस पर परिवार नियोजन के स्थायी एवं अस्थायी साधनों के बारे में जानकारी दी जा रही है। स्थायी साधनों में महिला नसबंदी एवं पुरुष नसबंदी एवं अस्थायी साधनों में कॉपर टी, गर्भ-निरोधक गोली(माला-एम एवं माला-एन), कंडोम एवं इमरजेंसी कंट्रासेपटीव पिल्स के बारे में बताया जा रहा है।
नवीन गर्भनिरोधक पर बल:
नवीन गर्भनिरोधक ‘अंतरा एवं ‘छाया’ के इस्तेमाल पर ज़ोर दिया जा रहा है। ‘अंतरा’ गर्भ निरोधक इंजेक्शन का इस्तेमाल एक या दो बच्चों के बाद गर्भ में अंतर रखने के लिए दिया जाता है। साल में इंजेक्शन का चार डोज दिया जाता है। वहीं ‘छाया’ गर्भ निरोधक एक साप्ताहिक टेबलेट है। इसे सप्ताह में एक बार सेवन करना होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *