स्वास्थ्य समाचार : गोपालगंज में आईसीडीएस-केस एप्लीकेशन के लिए मास्टर ट्रेनरों को प्रशिक्षण

• तीन दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का हुआ शुभारंभ
• 65 लेडिज सुपरवाइजर समेत 200 आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को दी गयी ट्रेनिंग
गोपालगंज/ 27 नवम्बर: जिले के एक निजी होटल में तीन दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया। जिसमें परियोजना की मास्टर ट्रेनर के रूप में चयनित महिला पर्यवेक्षिकाओं और सेविकाओं को आईसीडीएस-केस(कॉमन एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर) एप्लीकेशन पर काम करने के विषय में जानकारी दी गई। प्रशिक्षण शिविर का शुभारंभ आईसीडीएस के डीपीओ शम्स जावेद अंसारी, गोपालगंज एसडीओ उपेंद्र पाल, वरीय उपसमहर्ता पिंकी कुमारी ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्जवलित कर किया। यह प्रशिक्षण तीन दिनों तक चलेगा। जिसमें 65 चयनित महिला सुपरवाईजर समेत 200 सेविकाओं को केस एप्लीकेशन पर जानकारी दी जाएगी।
जिला कार्यक्रम पदाधिकारी आईसीडीएस शम्स जावेद अंसारी ने बताया इस एप्लीकेशन से आंगनवाड़ी सहायिका तकनीकी रूप से सक्षम हो पाएंगी।इस एप्लिकेशन को मोबाइल में डालने के बाद सहायिका को रजिस्टर संभालने से छुटकारा तो मिलेगा एवं इससे आईसीडीएस की अन्य गतिविधियों की मॉनीटरिंग में भी आसानी हो जाएगी।यह एप्लिकेशन हमेशा अपडेट रहेगा जिससे कार्यक्रम कार्यान्वयन में विशेष मदद मिलेगी. 11 रजिस्टरों में 10 रजिस्टर ऑनलाइन होने से आंगनवाड़ी सेविकाओं को सेवा प्रदायगी पर अधिक ध्यान देने के लिए अतिरिक्त समय भी मिल पाएगा। ये सभी मास्टर ट्रेनर अपने-अपने परियोजना में आंगनवाड़ी सेविकाओं को प्रशिक्षित करने का काम करेंगी। इस अवसर पर एसडीओ उपेन्द्र पाल, केयर इंडिया के डीटीएल मुकेश कुमार सिंह, परिवार नियोजन समन्वयक अमित कुमार, अमन कुमार, विकास कुमार समेत अन्य लोग मौजूद थे।


एप्लिकेशन से होगी बेहतर निगरानी: केयर इंडिया के स्टेट कंसल्टेंट अश्वनि कुमार ने बताया आईसीडीएस-केस एप्लीकेशन से आईसीडीएस सेवाओं की ऑनलाइन एंट्री शुरू होगी जिससे प्रदान की जाने वाली सेवाओं के कुशल प्रबंधन के साथ उन सेवाओं की ब्लॉक, जिला एवं राज्य स्तर पर बेहतर निगरानी सुनिश्चित करने में आसानी होगी. इससे प्रदान की जाने वाली सेवाओं को सशक्त करने में मदद तो मिलेगी ही साथ में पोषाहार परिणामों की रियल टाइम मॉनिटरिंग भी की जा सकेगी। प्रशिक्षण के दौरान महिला पर्यवेक्षिकाओं और सेविकाओं को आईसीडीएस-केस एप्लीकेशन को प्रभावी रूप से संचालित किये जाने के लिए राज्य, जिला एवं ब्लॉक स्तर पर बनाये गए हेल्पडेस्क के बारे में जानकारी दी गयी।
ईशु ट्रैकर रिपोर्ट की नियमित होगी निगरानी: एप्लीकेशन प्रशिक्षण का मुख्य कार्य स्मार्टफोन की उपलब्धता एवं इसके रख-रखाव को सुनिश्चित करना, समस्या प्रबंधन की निगरानी के लिए इशू ट्रैकर रिपोर्ट की नियमित निगरानी एवं समीक्षा करना, आईसीडीएस-केस डैश बोर्ड से डाटा समीक्षा करना एवं एप्लीकेशन इस्तेमाल को हर स्तर पर सुनिश्चित कराना है। साथ ही यह भी बताया गया कि राज्य हेल्पडेस्क को एप्लीकेशन संचालन प्रबंधन में सहायता प्रदान करने एवं जिला हेल्पडेस्क द्वारा उठाये गए मुद्दे को इशू-ट्रैकर के माध्यम से सुलझाने के लिए मुश्किलें दूर करने वाला (ट्रबलशूटिंग मैन्युअल) विकसित किया गया है।

24 total views, 2 views today