अब मोतियाबिद के मरीज सदर अस्पताल में अपना ऑपरेशन करा सकेंगे। इसके साथ ही अब शिशुओं को इलाज के लिए दूसरी रेफर नहीं किया जाएगा। शिशुओं का सदर अस्पताल में ही खुले पीडियाट्रिक वार्ड भर्ती कर इलाज किया जाएगा। गुरुवार को सूबे के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय ने सदर अस्पताल में बने मोतियाबिद ऑपरेशन सेंटर तथा पीडियाट्रिक वार्ड का फीता काट कर उद्धाटन किया।

बताया जाता है कि सदर अस्पताल परिसर में मोतियाबिद ऑपरेशन सेंटर कई माह से बन कर तैयार था। लेकिन मोतियाबिद का ऑपरेशन करने के लिए उपकरण नहीं होने से यह चालू नहीं हो सका था। इसी बीच स्वास्थ्य विभाग ने उपकरण उपलब्ध करा दिया। गुरुवार को सूबे के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय ने मोतियाबिद ऑपरेशन सेंटर का उद्धाटन किया। इसके साथ ही सदर अस्पताल के आइसीयू परिसर में बने पीडियाट्रिक वार्ड का भी फीता काट कर मंत्री ने इसे चालू कर दिया। इस दौरान मंत्री ने पीडियाट्रिक वार्ड में मौजूद चिकित्सकों से विस्तार से यहां मौजूद संसाधनों के बारे में जानकारी लिया। मोतियाबिद ऑपरेशन सेंटर में उपलब्ध कराए गए उपकरणों की भी मंत्री ने जांच किया। इस मौके पर स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय ने बताया कि पीडियाट्रिक वार्ड के खुलने के बाद एक माह से ऊपर के बच्चों का बेहतर उपचार सदर अस्पताल में ही हो सकेगा। अब शिशुओं को इलाज के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि मोतियाबिद का ऑपरेशन कराने के लिए भी वृद्ध लोगों को बाहर जाना पड़ता था। लेकिन बिहार सरकार ने सदर अस्पताल में ही मोतियाबिद का ऑपरेशन करने की व्यवस्था कर दिया है। उद्धाटन के समय विधायक सुभाष सिंह, सिविल सर्जन डॉ.नंदकिशोर प्रसाद, डीएस पीसी प्रभात, डॉ. संजय कुमार, आरके सिंह, आरके आर्य, डीपीएम अरविद कुमार झा, भाजपा जिलाध्यक्ष विनोद कुमार सिंह, जदयू जिलाध्यक्ष प्रमोद कुमार पटेल, भाजपा नेता दुर्गा राय, राजेश बरनवाल, राजू चौबे, संदीप गिरी, दीपक कुमार दीपू, सुभाष सिंह तोमर आदि मौजूद रहे।