गोपालगंज : मकर संक्रांति को लेकर घाट तैयार, लोग आज लगाएंगे डूबकी

मकर संक्रांति को लेकर नदी घाट पर सुरक्षा की प्रशासनिक स्तर पर तैयारियां पूरी हो गई हैं। घाटों पर गोताखोर तैनात किए जाने के साथ ही गंडक नदी में घाट व आसपास के इलाकों में कड़ी चौकसी रखने के लिए नाविकों को तैनात किया गया है। इसके प्रत्येक घाट पर पर्याप्त संख्या में सुरक्षा बलों को भी तैनात किया गया है। ताकि घाट पर उमड़ने वाली भीड़ पर नजर रखी जा सके। बुधवार को मकर संक्रांति पर श्रद्धालुओं नदियों में स्नान कर पूजा अर्चना करेंगे। जिसे देखते हुए प्रशासनिक स्तर पर गंडक नदी के डुमरिया, रुपनछाप, जोकहां, बतरदेह, सरफरा, सलेमपुर, सिकटिया आदि घाटों पर तैयारियों को अंतिम रूप दे दिया गया है। घाटों तक जाने वाले रास्ते की साफ सफाई का काम भी पूरा हो गया है। इस बीच मकर संक्रांति पर गंडक नदी के घाटों के आसपास मंगलवार को तिलकुट, चूड़ा, गुड़, लाई से लेकर खानपान की दुकानें भी सज गईं।

 

सीओ को जारी किए गए निर्देश

नदी घाट पर सुरक्षा के प्रबंध के बीच जिला प्रशासन ने सभी संबंधित अंचल पदाधिकारियों को घाट पर चौबीस घंटे नजर रखने का निर्देश जारी किया गया है। घाटों पर किसी भी तरह का हादसा न हो, इसके लिए आवश्यक तैयारियों को दुरुस्त करने को कहा गया है।

पूर्व संध्या पर जमकर हुई खरीदारी:

मकर संक्रांति को लेकर मंगलवार को पूरे दिन लोग सामानों की खरीदारी में लगे रहे। पूरे दिन बाजारों में चहल-पहल दिखी। महंगाई के बावजूद लोग अपनी हैसियत के मुताबिक सामानों की खरीदारी में लगे रहे। मंकर संक्रांति के दिन बुधवार को तड़के से ही नदी व तालाब में डुबकी लगाने का कार्य प्रारंभ होगा। जो दोपहर तक जारी रहेगा।

महाभोग को उमड़ेगी भक्तों की भीड़:

ऐतिहासिक थावे दुर्गा मंदिर परिसर में मकर संक्रांति के मौके पर महाभोग का आयोजन किया जाएगा। इस मौके पर मंदिर परिसर में भक्तों की भारी भीड़ उमड़ने की संभावना है। महाभोग के दौरान भीड़ को नियंत्रित करने लिए मंदिर परिसर में अतिरिक्त सुरक्षा बलों को तैनात कर दिया गया है। महाभोग में मां को खिचड़ी चढ़ाया जाता है। उसके बाद भक्तों के बीच प्रसाद का वितरण किए जाने की परंपरा है। बुधवार को दिन के 11 बजे महाभोग का प्रसाद चढ़ाए जाने का कार्यक्रम निर्धारित किया गया है। महाभोग के प्रसाद के बाद दुर्गा मंदिर गोलंबर चौक के पास स्थित ठाकुर मंदिर में भंडारा का आयोजन किया जाएगा।

बेलबलवां हनुमान मंदिर में भी चढ़ेगा महाभोग:

बुधवार को मकर संक्रांति के अवसर पर कुचायकोट प्रखंड के बेलवनवां हनुमान मंदिर में भी महाभोग चढ़ाया जाएगा। इसके लिए मंदिर प्रबंध समिति ने सभी तैयारियां पूर्ण कर ली गई है । मंदिर प्रबंधन समिति के सदस्यों ने बताया कि प्रति वर्ष की तरह इस वर्ष भी मंदिर में पूजा पाठ के बाद महाभोग का आयोजन होगा। जिसमें हजारों लोगों को प्रसाद के रुप मे खिचडी खिलाई जाएगी।

जानिए क्या है संक्रांति:

सनातन धर्म में सूर्य जिस समय दूसरी राशि से मकर राशि में प्रवेश या संक्रमण करते हैं, उसे मकर संक्रांति कहा जाता है। वास्तव में मकर संक्रांति सूर्य उपासना का पर्व है। संक्रांति का शाब्दिक अर्थ है सूर्य अथवा किसी भी ग्रह की एक राशि का दूसरी राशि में प्रवेश करना। मकर राशि में प्रवेश करते ही भगवान भास्कर उत्तरायण हो जाते हैं। सूर्य जब कर्क राशि में आते हैं तो दक्षिणायन हो जाते हैं। सूर्य के दक्षिणायन होते ही शुभ कार्य पर प्रतिबंध लग जाता है। उत्तरायण देवताओं का दिन और दक्षिणायन उनकी रात्रि मानी जाती है।

73 total views, 1 views today

खबर प्रकाशन संबंधित जानकारी