अभी-अभी:
DM का अनोखा आदेश- कड़ाके की ठंड में जारी कर दिया गर्मी की छुट्टी का फरमान | | Gopalganj समाचार

DM का अनोखा आदेश- कड़ाके की ठंड में जारी कर दिया गर्मी की छुट्टी का फरमान

गोपालगंज (Gopalganj) में जिलाधिकारी के अजीबो-गरीब आदेश (summer vacation order) से शिक्षा विभाग में खलबली मच गई है. दरअसल जिले के डीएम ने कड़ाके की सर्दी (Cold wave) के बीच गर्मी की छुट्टी (Heat Wave) का आदेश जारी कर दिया है.

 

 

 

 

 

 

 

सरकारी विभागों और अधिकारियों के काम-काज का नमूना देखना हो, तो आप बिहार (Bihar) के गोपालगंज (Gopalganj) में आएं. जहां जिलाधिकारी (District Magistrate) ने कड़ाके की ठंड (Cold wave) के बीच स्कूलों में गर्मी की छुट्टी (Heat Wave) का आदेश जारी कर दिया है. डीएम के के इस अजीबो-गरीब आदेश से शिक्षा विभाग (Education Department) में जहां खलबली मच गई है, वहीं इसकी चर्चा चहुंओर पसर गई है. जिले के डीएम अरशद अजीज के अनोखे आदेश और पत्र को लेकर सवाल उठने लगे हैं. अभी जबकि गोपालगंज में न्यूनतम तापमान 9 डिग्री सेल्सियस तक जा पहुंचा है, ऐसे में जिलाधिकारी ने हीट वेव यानी लू की वजह से स्कूल बंद रखने का आदेश जारी कर दिया है.

 

14 जनवरी तक स्कूल बंद रखने का आदेश:

गोपालगंज के डीएम ने जो आदेश जारी किया है, उसमें पहली से लेकर 8वीं कक्षा तक के बच्चों के लिए 14 जनवरी तक स्कूल बंद रखने को कहा गया है. News 18 के पास मौजूद जिलाधिकारी के इस पत्र में साफ लिखा गया है कि डीएम ने गर्मी की छुट्टी का आदेश जारी कर दिया है. पत्र प्राप्त होते ही जहां जिले के स्कूल प्रबंधन असमंजस में पड़ गए हैं, वहीं नियोजित शिक्षक संघ ने डीएम के रवैये पर सवाल खड़ा कर दिया है. शिक्षक नेता आनंद मिश्रा ने कहा कि डीएम के कारनामे के खिलाफ शिक्षक संघ जांच की मांग करता है. ऐसे अधिकारी के खिलाफ सरकार को कार्रवाई करनी चाहिए, क्योंकि इससे न सिर्फ स्कूल प्रबंधन असमंजस में है, बल्कि शिक्षकों और अभिभावकों के बीच भी गफलत फैल रही है.

पहले भी दे चुके हैं ऐसे आदेश
गोपालगंज के डीएम अरशद अजीज ने पहली बार यह ‘कारनामा’ नहीं किया है. आरोप है कि इससे पहले भी उन्होंने एक बार वर्ष 2029 तक की छुट्टी का निर्देश जारी कर दिया था. वहीं, शनिवार को जारी किए गए पत्र में डीएम का हस्ताक्षर भी है और यह जिले के एसपी, सभी एसडीएम, डीईओ, डीपीओ और बीईओ को भेजा गया है. गौर करने वाली बात यह है कि पत्र पाने वाले अधिकारियों ने भी डीएम को इसकी गलती के बारे में नहीं बताया. 5 घंटे बाद भी पत्र में सुधार नहीं किया गया है. हालांकि जिले के एसपी मनोज तिवारी ने कहा कि डीएम को इस गलती के बारे में सूचना दे दी गई है.

 1,360 total views,  2 views today

खबर प्रकाशन संबंधित जानकारी