भोरे थाना क्षेत्र के कोरेया गांव निवासी दीपू कुमार गुप्ता की हत्या उसके ही दोस्तों ने प्रेम प्रसंग को लेकर गला रेत कर किया था। इस वारदात के 48 घंटे के अंदर ही पुलिस ने तीन आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है। हालांकि अभी भी पुलिस दीपू के सीडीआर का इंतजार कर रही है। ताकि यह बात साफ हो सके कि गिरफतार किए गए तीन आरोपितों के अलावे इस हत्याकांड में और कौन-कौन शामिल थे। इसी बीच मृतक की मां के बयान पर तीन नामजद सहित आठ लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर पुलिस गिरफ्तार किए गए आरोपितों से पूछताछ कर रही है।

बुधवार की रात भोरे थाना क्षेत्र के कोरेया गांव निवासी दीपू गुप्ता की गला रेत कर हत्या कर दी गई थी। जिसका शव गुरुवार की सुबह उसके ही बथान से पुलिस ने बरामद किया। हत्यारे युवक को मोबाइल फोन भी लेकर फरार हो गए थे। इस दौरान मृतक के परिजनों ने पुलिस को बताया कि दीपू गुप्ता ने अपनी एक बाइक बेची थी। बाइक बेचने पर मिला रुपया भी उसके पास था तथा रुपया भी गायब है। पूछताछ के दौरान पुलिस को यह जानकारी भी मिली कि बुधवार को दीपू गुप्ता ने अपने दोस्तों के साथ पार्टी भी किया था। इन सभी बिदुओं को एक साथ जोड़ कर पुलिस ने मामले की जांच शुरू किया तो प्रेम प्रसंग का मामला सामने आया। इसी बीच मृतक की मां के बयान पर कोरेया गांव निवासी तथा दीपू गुप्ता के दोस्त नीरज गोंड, सत्यपाल यादव, नीतीश ठाकुर उर्फ न्यूटन ठाकुर को नामजद करते हुए पांच अज्ञात लोगों के खिलाफ थाना में प्राथमिकी दर्ज की गई। प्राथमिकी दर्ज करने के बाद पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए आरोपित नीरज गोंड, सत्यपाल यादव तथा नीतीश ठाकुर को उनके घर से गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ के दौरान आरोपितों ने पुलिस को बताया है कि दीपू गुप्ता का प्रेम प्रसंग उसी गांव की एक लड़की के साथ चल रहा था। जिस लड़की को दीपू पसंद करता था, उसी लड़की को वे भी चाहते थे। इसी बात को लेकर चारों के बीच कहासुनी हुई तथा बुधवार की रात मौका पाकर दीपू गुप्ता की गला रेत कर हत्या कर दी गई। इस संबंध में पूछे जाने पर थानाध्यक्ष जंगो राम ने बताया कि दीपू हत्याकांड में शामिल उसके ही तीन दोस्तों को गिरफ्तार कर लिया गया है। उनसे पूछताछ की जा रही है। पूछताछ के बाद इस वारदात में शामिल कुछ और लोगों के नाम के खुलासा होगा।